Jump to content
JainSamaj.World
Sign in to follow this  
  • entry
    1
  • comment
    1
  • views
    914

Entries in this blog

Saurabh Jain

? सभी को जय जिनेन्द्र?
   एवम् परम पूज्य गुरूदेव आचार्य श्री १०८ विद्या सागर जी महाराज का मंगल
✋✋✋आशीर्वाद✋✋✋

आज का दिन मंगलमय हो ।।

?शास्त्रों में लिखा है हमे रोज़ एक नियम/त्याग लेना ही चाहिये । 

?सभी धर्मो में त्याग /नियम को बहुत महत्व दिया गया है ।

? त्याग / नियम कितना भी छोटा क्यों न हो (सिर्फ 10 मिनिट का भी) बहुत अशुभ कर्म नष्ट होते हैं।

?रोज़ कुछ त्याग करने से असंख्यात बुरे कर्मो की निर्ज़रा (क्षय) होती है
 
? नरक गति का बंध अगर हमारा हो चुका है तो हम किसी भी तरह  के नियम जीवन में नहीं ले पाते हैं  

आज-    11-02-2016
  दिन-     गुरूवार

?"" आप चाहे तो सिर्फ आज के लिये ये त्याग/नियम भी ले सकते हैं या और कोई भी नियम अपने   अनुसार ले सकते है ।।                                                                                                                                                                                                                                   
 ?नियम ➡ आज गुलाब जामुन का त्याग !

gj.jpg.83fc5265df11ce5e71e30847315ebc21.


?शहर में विराजित साधू संतो के दर्शन की  और निरंतराय आहार की भावना  रखे और हो सके तो दर्शन करके आहार भी दें।
??जय जिनेन्द्र ??

?जिन मंदिर  जी  जाकर  कुछ गुप्तदान जरुर  करें।?

आप नीचे कमेंट में त्याग हे या नियम हें ऐसा लिख सकते हें 

-Singhai Deepak Jain

Sign in to follow this  
×